Share Market Kya hai

Share Market kya hai | शेयर मार्केट क्या है

Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Share Market kya hai : आज हर कोई अपनी आय यानी सैलरी को बढ़ने के उद्देश से बहुत कुछ नए आइडिया को सोचता हैं लेकिन ज्यादा तर लोग एफडी बनाते हैं या जीवन बीमा जैसी पॉलिसी में इन्वेस्ट करते हैं। लेकिन ऐसे लोग शेयर मार्केट में इन्वेस्ट यानी निवेश करने के बारे में सोच कर ही उन्हे लगता हैं की यहां जोखिम (रिस्क) हैं। तो इसी आर्टिकल में हम आपको बताएंगे की आप कैसे Share Market में इन्वेस्ट कैसे करें और साथ ही शेयर मार्केट के बारे में भी बताएंगे क्यों बहुत से लोगों को इस चीज का ज्ञान नहीं होता है और लोग कन्फ्यूज हो जाते हैं क्यों की उन्हें सही जानकारी ही नहीं मिलती।

शेयर मार्केट क्या है

शेयर ( Share ) का मतलब होता है हिस्सा इस हिस्से को आप ऐसे समझिए जैसे की इस जमीन के दो हिस्से हैं यानी की इस जमीन को दो लोगों के शेयर है ऐसे और मार्केट (market) का मतलब जहां आप खरीद-बिक्री करते हैं।

अगर इसके शाब्दिक अर्थ पर जाएं तो शेयर यानी स्टोक मार्केट किसी लिस्टेड यानी सूचीबद्ध कंपनी में हिस्सेदारी यानी शेयर्स खरीदने और बेचने की जगह है।

भारत में बोम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) नाम के दो प्रमुख शेयर बाजार हैं।

BSE या NSE में किसी भी लिस्टेड कंपनी के शेयर होते है। वो ब्रोकर यानी की दलाल के माध्यम से खरीदे और बेचे जाते हैं। यानी आप ने अगर किसी कम्पनी के शेयर खरीदे तो जब तक उस कम्पनी के हिस्से यानी की वो शेयर आपके पास होगा। आप भी उस कम्पनी के मालिक होंगे और जब आपको मुनाफा यानी की फायदा हो तो आप उन शेयर्स को बेच भी सकते हैं। शेयर बाजार यानी स्टोक मार्किट में हालांकि बांड, म्युचुअल फंड और डेरिवेटिव का भी व्यापार होता है।

स्टॉक बाजार या शेयर बाजार में बड़े रिटर्न मतलब ये की आपने जितना खर्च किया है उसका डबल मिलने की उम्मीद के साथ देशी लोगों के साथ-साथ विदेशी निवेशक भी काफी निवेश करते हैं।

शेयर मार्किट में शुरुवात कैसे करें ?

शेयर मार्केट ( Share Market ) में अगर आप इन्वेस्ट करना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले मार्केट के सारे रूल्स रेगुलेशन का ज्ञान होना जरूरी है साथ ही हर एक चीज पर ध्यान देना है मार्केट में अपनी पूंजी लगने से पहले और आप जो भी पूजी यानी रुपए लगा रहे हों वो आपकी की बचत से हो लेकिन शुरुवात कम पैसों से करें लेकिन हमेशा ध्यान दे की आपको ज्यादा नुक्सान ना झेलना पड़े।

इस मार्केट में आपको शेयर खरीदने के लिए आपको एक डीमैट ( Demat account) अकाउंट बनना पड़ेगा। अकाउंट आप दो तरीकों से बना सकते हैं सबसे पहला तरीका आप किसी ब्रोकर यानी दलाल के पास जाकर एक डीमैट अकाउंट बनावा सकते हैं या फ़िर बैक अकाउंट में जाकर भी आप अकाउंट बनावा सकते हैं।

लेकिन आप अगर एक ब्रोकर से अपना एकाउंट खुलवातें है तो आपको उससे ज्यादा फायदा होगा। क्यों की सबसे पहली बात आप इस मार्केट में नए तो आपको एक अच्छा सपोर्ट मिलेगा और दूसरी सबसे अहम बात ये की आपके निवेश के हिसाब से ही वो आपको अच्छी कंपनी में निवेश करने की जानकारी भी दिया करते हैं ऐसा करने के लिए वो रुपए भी लेता है जिसका भी भुगतान अपको करना होगा लेकिन सलाह भी तो मिलेगी।

अब आप सोच रहे होंगे की ये डीमैट अकाउंट से क्या होगा इस अकाउट में हमारे शेयर के रुपए रखे जायेंगे। जैसे हम बैंक में रखते है उसी तरह शेयर बाजार में डीमैट अकाउंट में रुपए रखना भी बहुत जरूरी होता है।

डीमैट एकाउंट बनने के लिए आपका किसी भी बैंक में सेविंग अकाउंट होना जरूरी है और आईडी प्रूफ के लिए पान कार्ड और एड्रेस प्रूफ होना चाहिए।

इस अकाउंट यानी की डीमैट अकाउंट में आप जिस भी कम्पनी के शेयर लिए हैं उससे आपको को जो भी मुनाफा वो आपके इसी एकाउंट में आते है ना की अपके अकाउंट में, और डीमैट अकाउंट जो हैं वो अपके सेविंग अकाउंट से लिंक होता है और अगर आप चाहे तो डीमैट अकाउंट से अपने बैंक एकाउंट में बाद में धन राशि ट्रांसफर कर सकते हैं।

अब आप बैंक अकाउंट से अपने डीमैट अकाउंट में फंड यानी रुपए को ट्रांसफर कीजिये और ब्रोकर की वेबसाइट से खुद लॉग इन कर के या उसे कॉल से आर्डर देकर किसी कंपनी के शेयर खरीद सकते हैं।

इसके बाद वह शेयर आपके डीमैट अकाउंट में ट्रांसफर हो जायेंगे,अब आप जब चाहें उसे किसी कामकाजी दिन यानी की मार्केट में शेयर बढ़ने पर ब्रोकर के माध्यम से ही बेच सकते हैं।

शेयर खरीदने का मतलब क्या होता है?

शेयर खरीदने का सिलसिला कैसे शुरू होता है जैसे NSE ने किसी लिस्टेड किसी भी कंपनी ने 15 लाख के शेयर्स जारी किए, अब उस कंपनी के रूल्स रेगुलेशन के हिसाब से जितने शेयर आप खरीद लेते हैं आप उस कम्पनी के उनते हिस्से की मालिक हो गया। अब आप अपने हिस्से के शेयर किसी को जब भी चाहें बेच सकते हैं।कंपनी जब शेयर जारी करती है तो उस वक्त किसी समूह या किसी व्यक्ति को कितने शेयर देना है, यह उस पर निर्भर करता है, इन सब कामों के लिए आप ब्रोकर की मदद ले सकते हैं।

किसी लिस्टेड कंपनी के शेयरों BSE/NSE में दर्ज होता है। सभी लिस्टेड कंपनियों के शेयरों का मूल्य उनके मुनाफे कमाने के अनुसार घटता-बढ़ता रहता है।सभी शेयर बाज़ार का नियंत्रण भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (SEBI) के हाथ में होता है।

SEBI की परमिशन के बाद ही कोई कंपनी आपने शेयर बाजार में लिस्ट करवाकर अपना शुरुवाती निर्गम इश्यू (IPO) जारी कर सकती है।

हर तीसरे और छठे या साल भर के आधार पर कंपनियां मुनाफा कमाने पर जिसने भी शेयर्स खरीदें है उन्हे मुनाफा देती है।कंपनी की गतिविधियों की जानकारी SEBI और BSE/NSE की वेबसाइट पर भी उपलब्ध करवाई जाती है।

शेयरों के भाव में उतार-चढ़ाव कैसे और क्यों आते है?

अक्सर ये लोगों का सवाल होता है की शेयर बाजार में क्भीयों उतार चढ़ाव आता है वो कैसे और क्यों आता है।

कोई भी कंपनी के जो कामकाज, ऑर्डर मिलने के बाद छीन जाने, या उसके नतीजे बेहतर रहने, मुनाफे घटने बढ़ने जैसी सारी जानकारियों के आधार उस कंपनी का मूल्यांकन होता है। क्यों की लिस्टेड कंपनियां रोज कारोबार करती हैं और हर दिन कुछ न कुछ बदलाव होते रहते है ऐसे में इनके मूल्यांकन के आधार पर मांग घटने-बढ़ने से उसके शेयरों की कीमतों में उतार-चढाव आता रहता है।

अगर कोई कंपनी लिस्टिंग समझौते से जुड़ी नियमों और शर्तों का पालन नहीं करती, तो उसे सेबी BSE/NSE से डीलिस्ट यानी हटा दिया जाता है।

यह भी पढ़े – Business Books in Hindi

निष्कर्ष [ Share Market kya hai ]

शेयर बाजार जोखिम से भरा जरूर हो लेकिन अगर आप सूझ बूझ के साथ निवेश करेंगे तो आपको लाभ भी मिलेगा विश्व के सबसे अमीर व्यक्तियों में शामिल वारेन बफे भी शेयर बाजार में ही निवेश कर अरबपति बने हैं, ये सब यकीन आपको उत्साहित करें लेकिन आपको मार्केट में उतरने से पहले जोखिमों से भी भली भांति परिचित हों। आपने रूपयों की भी कैलकुलेशन का ध्यान रखें ताकि अगर आपको लॉस होता हैं तो उसकी भरपाई कर सके। शेयर बाजारों के उतार चढ़ाव को समझने के लिए आप किसी बिजनेस न्यूज पेपर या चैनल का भी सहारा ले सकते हैं।

Summary
Article Name
Share Market kya hai
Description
शेयर ( Share ) का मतलब होता है हिस्सा इस हिस्से को आप ऐसे समझिए जैसे की इस जमीन के दो हिस्से हैं यानी की इस जमीन को दो लोगों के शेयर है ऐसे और मार्केट (market) का मतलब जहां आप खरीद-बिक्री करते हैं।
Author
Publisher Name
योगेश शर्मा

Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Yogesh Sharma

नमस्कार दोस्तों, में योगेश शर्मा, Hindi Top का Digital Marketing Author & Co-Founder हु. अगर में अपनी बात करता हु तो मेरे Digital Marketing में 2 साल का experience है. मेरे को Digital Marketing की New Update दखने में और दुसरो को सिखाने में बड़ा मजा आता है. आप Hindi Top के साथ बने रहो आप रोज नई-नई चीजो को सिख्नते रहोगे!

View all posts by Yogesh Sharma →

Leave a Reply