Business

Hardware Business Plan in Hindi | हार्डवेयर की दुकान कैसे खोले

Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हेलो दोस्तों, कैसे है आप सब ? हमारे Hindi Top वेबसाइट पर आपका स्वागत है। हमारे पोस्ट में आपको हम हार्डवेयर की दुकान कैसे खोले (hardware business plan in Hindi) के विषय में पूरी जानकारी बताएंगे। क्या आप हार्डवेयर पार्ट्स के बारे में कुछ जानते है ? अगर आप कोई व्यवसाय करना चाहते हो जिसमे आपको लाभ अच्छा मिले और दुगुना मुनाफा मिले तो आप हार्डवेयर की छोटी दूकान से भी शुरुवात कर सकते है। जी हां वर्तमान काल में आप हर एक काम्प्लेक्स में हार्डवेयर का दूकान देख सकते है। इनका इस्तेमाल हर क्षेत्र में होता है जैसे अगर आपको प्लंबिंग का हार्डवेयर सामग्री चाहिए तो आप प्लंबिंग के हार्ड वेयर की दूकान में खरीदने जाते है। हार्डवेयर सामग्री में घरेलु एवं व्यावसायिक उपयोग में लाइ जाने वाली हार्डवेयर सामग्री जैसे कील, नट, स्क्रू, बोल्ट, निर्माण सामग्री, पाइप, वायर, इलेक्ट्रिकल सामग्री, इलेक्ट्रॉनिक सामग्री, सफाई उपकरण , बर्तन, पेंट सामग्री, चाबियां, ताला, बर्तन, कृषि उपकरण जो घर से लेकर बड़ी बड़ी कंपनियों में इस्तेमाल करने के साधन है यह सभी हार्डवेयर सामग्री यानी पार्ट्स में शामिल है। आप कोई भी हार्डवेयर पार्ट्स के व्यवसाय में प्रवेश कर सकते है। वर्तमान काल में हार्डवेयर का सेवन बहुत ज्यादा किया जा रहा है साथ ही इस व्यवसाय में प्रतिस्पर्धा यानी कॉम्पिटिटर्स भी बहुत है। क्यूंकि हार्डवेयर की सामग्री घर से लेकर ऑफिसेस में रोज़ उपयोग आते है और इसमें मुनाफा भी काफी अच्छा है। यह बिज़नेस अगर आप नए सिरे से शुरुवात करना चाहते हो तो आपको इस व्यापार में इन्वेस्टमेंट की जरुरत पड़ेगी। हार्डवेयर की दूकान खोलने से पहले आपको हार्डवेयर के पार्ट्स की मार्केट रेट को जानना काफी आवश्यक है और इनके डिस्ट्रीब्यूटर्स और व्होलेसलेर्स की जानकारी भी आपको हासिल करनी होगी।

हार्डवेयर दुकान क्या है

हार्डवेयर सामग्री घरेलु चीज़ो से लेकर कंस्ट्रक्शन में उपयोग होने वाली उपकरणों के आतंरिक पार्ट्स होते है। उदाहरण के तौर पर टेलीविज़न में इस्तेमाल होनी वाली सारे सामग्री आपको इलेक्ट्रॉनिक हार्डवेयर स्टोर में आसानी से मिल जाएंगी। दूसरा उदाहरण अगर आप ग्राइंडर का इस्तेमाल करते है तो उसमे इस्तेमाल होने वाली हार्डवेयर टूल्स आपको बर्तन के हार्डवेयर स्टोर में मिल जाएंगी।

हार्डवेयर की दुकान कैसे खोले

हमारे देश में हार्डवेयर स्टोर खोलना एक राशन के दूकान खोलने जितना आसान है, लेकिन अगर हार्डवेयर सामग्री की बिना रिसर्च किये खोलना उतना ही आपको घाटे में ला सकता है। इस दूकान को आपको पूरी जांच पड़ताल तोलकर ही खोलना होगा, इसके लिए आपको अपने एरिया में इन हार्डवेयर पार्ट्स की मांग और डिमांड, इनके सप्प्लायर्स की जानकारी, अपने कॉम्पिटिटर्स की रेट्स, हार्डवेयर पार्ट्स की मार्किट वैल्यू यह सब जांच कर ही अपना दूकान आपको खोलना होगा। हार्डवेयर स्टोर को खोलने के बाद आपको अपने स्टोर का खूब प्रचार करना होगा, आपको मार्किट वैल्यू से ज्यादा आपके हार्डवेयर को नहीं बेचना है वरना आपको भारी भरकम नुक्सान हो सकता है। आपको इन हार्डवेयर पार्ट्स की क्वालिटी अच्छी लेनी होगी और दूकान खोलने से पहले आपको धैर्य की जरुरत है क्यूंकि अगर आप दूकान खोलने के बाद नुक्सान में भी जाते है तो आपको इसका भी इंतज़ाम पहले ही सोचकर रखना होगा।

हार्डवेयर दूकान के लिए लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन

यद्यपि आपने कोई हार्डवेयर पार्ट्स का चुनाव कर लिया है तो आपको पहले लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन की आवश्यक होगी। रजिस्ट्रेशन के लिए आप नगर निगम के कार्यालय में जाकर आवश्यक फॉर्म भरदे और इसके अलावा जीएसटी पंजीकरण भी बना लीजिये। कोई भी हार्डवेयर सामग्री या अन्य दूकान के लिए नियमित रूप से रजिस्ट्रेशन करना बहुत आवश्यक है।

हार्डवेयर स्टोर के लिए सही स्थान चुने

एक चाय वाला भी अपना दूकान ऐसी जगह पर चुनता है जहा पर लोगों का आना जाना यानी भीड़ भरी जगह पर जहा लोग की नज़र उसके गल्ले पर पड़े । उसी तरह आपको हार्डवेयर की दूकान ऐसे जगह डालना है जो प्रमुख सड़क के पास हो न की कोई सुनसान या कम भीड़ वाली जगह पर उपलभ्ध हो। व्यापारियों का स्टोर सही स्थान पर होने से ही उनकी दूकान की चलने की आशंका काफी बढ़ जाती है। आप किस प्रकार के हार्डवेयर पार्ट्स रखते है इस पर भी आपका व्यापार निर्भर करता है , यानी अगर आप कंस्ट्रक्शन वाली हार्डवेयर सामग्री रखते है तो आपको यह दूकान कोई ऐसे जगह पर डालनी होगी जहां भविष्य में बहुत सारी कंस्ट्रक्शन यानी कोई बड़ा काम्प्लेक्स बन रहा हो। इससे आपकी दूकान सफल होने की पूरी आशा होगी।

अपने हार्डवेयर पार्ट्स की लिस्ट तैयार करें

आपके हार्डवेयर स्टोर में रखने वाली सारि आइटम्स की लिस्ट आपको बनानी होगी। इनमे लगने वाली इन्वेस्टमेंट भी आपको सोच समझकर तोलना होगा। अपने एरिया में डिमांड में रहने वाली आइटम्स को ही आप शुरुवाती में रखें। बाद में जब आपका व्यवसाय तेजी पकडे तब धीरे धीरे आप नए सामग्रियां भर सकते है। आपको दूसरे हार्डवेयर स्टोर्स में भी भेट करना होगा और उनसे अच्छी आइटम बिक्री के बारे में भी जानना होगा। जितना अच्छी तैयारी के साथ आप अपना दूकान खोलेंगे उतना अच्छा आपका व्यवसाय सफल होने में सक्षम होगा।

अपने स्थानीय सप्प्लायर का चुनाव करें

आपके व्यवसाय में आपके सप्प्लायर का बहुत बड़ा हाथ होता है। आपके हार्डवेयर स्टोर में रखे जाने वाली सामग्रियों के लिस्ट बनाकर आपको अपने एरिया के सप्प्लायर्स से क्वोटेशन माँगना होगा। आप ऑनलाइन संपर्क कर रहे है तो रेट्स फाइनल करने के बाद आपको उनसे मीटिंग करनी होगी और अपने सामग्रियों की क्वालिटी जाँचनी होगी उसके बाद ही आपको उनसे सामग्री लेनी चाहिए । इसके लिए आप दो तीन सप्प्लायर्स का चुनाव भी कर सकते है जो आपको अलग अलग पार्ट्स अच्छी क्वालिटी में लाकर दे। इसके अलावा आपको मैन मार्किट में भी जाकर इन सामग्रियों के रेट्स पता करने होंगे, यह सब आपको दूकान खोलने से पहले ही करना होगा।

इनवेस्टमेंट राशि का पता करें

सब जांच पड़ताल करने के बाद आपको इस स्टोर में लगने वाली 6 महीनो की सामग्री का इन्वेस्टमेंट जोड़ना होगा। आप आगे की तैयारी के साथ ही अपना दूकान खोले। शुरुवाती इन्वेस्टमेंट आपको सामग्री और दूकान के साथ लगभग 6 से 7 लाख तक का होगा। आप इससे कम में भी शुरुवात कर सकते है, लेकिन आपको आगे के खर्चे को ध्यान में रखके इनवेस्टमेंट प्लानिंग करना होगा। अगर आप पहले से ही अपने कस्टमर्स जुटा चुके है तो आपको व्यवसाय करने में भी आसानी होगी। पूरी प्लानिंग के साथ दूकान खोलना आपके लिए आवश्य सफलता का मार्ग तय करेगा।

सही विज्ञापन करें

दूकान खोलने के बाद आपको कई मार्केटिंग स्ट्रेटेजीज अपनानी होगी। बिलबोर्ड्स, बैनर, ऑनलाइन मार्केटिंग हर प्रकार की मार्केटिंग आपको करनी होगी तभी आपके दूकान की चर्चा आप अपने कस्टमर्स तक कर पाएंगे। सामग्री खरीदने पर आप अन्य ऑफर्स की योजना भी रख सकते है जिससे कारीगर आपके दूकान में खींचे चले आए। कारीगर जैसे प्लम्बर, इलेक्ट्रीशियन, इलेक्ट्रॉनिक कारीगर, टेक्नीशन यह सारे हार्डवेयर की सामग्री का भरपूर रोज़ भरी ज़िन्दगी में इस्तेमाल करते है। इन्हे आप ज्यादा डिस्काउंट और ऑफर्स देकर अच्छी मार्केटिंग के जरिये अपना व्यवसाय चला सकते है।

पैसे की लेन देन

आप कॅश पेमेंट के अलावा और भी पेसो के ट्रांसक्शन्स के विकल्प रख सकते है , जैसे कार्ड पेमेंट, पयपाल, पेटीएम, गूगल पे, यह साधन कस्टमर्स को काफी पसंद आते है क्यूंकि हर कोई आज कॅश लेकर नहीं घूमता। ऐसे में यह साधन उनके लिए काफी लाभ प्रदान करेगा।

निष्कर्ष

हमें आशा है आपको हमारा आर्टिकल हार्डवेयर की दुकान कैसे खोले (hardware business plan in Hindi) पसंद आया हो। हमारे आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद्। हम नए पोस्ट के साथ फिर हमारी हिंदी टॉप वेबसाइट पर आपके लिए जानकारी लेकर हाज़िर होंगे। आपका धन्यवाद्।


Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

sona arumugam

मेरा नाम सोना अरुमुगम है , पेशे से इंजीनियर👩‍💻 दिल से लेखक हुँ।❤✍ मेरे ब्लॉग सिर्फ शब्द नहीं हैं वो मेरे विचार हैं📖💫 मैं सुरत शहर से ताल्लुक रखती हूं ।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button