TechnologyTutorial

गूगल का मालिक कौन है ? | Google ka Malik kaun hai.

Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

hello दोस्तों , मेरा नाम Swati Singh है में आप को आज बताने वाली हु गूगल का मालिक कौन है और गूगल के मालिक के बारे में जानकारी देने वाली हु अगर आप अभी तक नही पता की गूगल का मालिक कौन है और आप गूगल के मालिक के बारे में पता करना चाहते हो तो आप हमारा यह आर्टिकल जरुर पढ़े

गूगल आज के समय में लगभग हर किसी की ज़िन्दगी का अहम् हिस्सा है। इसकी सर्विस आपको दुनया के ज़्यदातर देशो में देखने को मिल जाएगी। इस तरह दुनया की काफी पॉपुलर कंपनी बन गए है। जहां तक बात करे भारत की तो यहां काफी पॉपुलर वेबसाइट है। किसी के बारे में जानने के लिए ज़्यदातर भारतीय लोग गूगल पर सर्च करना पसंद करते है।

गूगल का मालिक कौन है और गूगल कहा की कंपनी है

गूगल का मालिक starting में तो Larry Page और Sergey Brin थाई उन्होंने ने हो गूगल को बनाया था लेकिन आज के गूगल के मालिक Larry Page और Sergey Brin ही है सबसे जयदा शेयर होल्डर के कारन गूगल के मालिक लैरी पेज और सर्गे ब्रिन है

गूगल एक अमेरिकी कंपनी है जो पूरे विश्व में इंटरनेट के माध्यम से सबको जानकारी देने और अन्य कई सेवा प्रदान करने के लिए प्रसिद्ध है| इस समय गूगल का मालिक ( सी ई ओ) एक भारतीय है जिनका नाम है सुंदर पिचाइ जो की एक भारतीय-अमेरिकी व्यापार कार्यकारी है। वह अल्फाबेट इंक. और इसकी सहायक गूगल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं | उनकी उम्र 49 साल है और वो 2015 मे गूगल के CEO चुने गये थे | पिचाइ सुंदरराजन का जन्म 12 जुलाई 1972 में मद्रास मे हुआ था। वह मूल रूप से एक भारतीय नागरिक थे लेकिन बाद में उन्हें गूगल द्वारा काम पर रखने के बाद अमेरिकी नागरिकता प्रदान की गई थी। अब कई वश से पिचाइ अमेरिका में ही रहते है अपने परिवार के साथ परंतु उनके माता पिता भारत में ही रहते है। उनके माता पिता को उनकी सफलता पे काफी अधिक गर्व है।

सुंदर पिचाइ की पढाई

पिचाई ने जवाहर नवोदय विद्यालय, अशोक नगर, चेन्नई में एक केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड स्कूल में स्कूली शिक्षा पूरी की और आईआईटी मद्रास के वाना वाणी स्कूल से बारहवीं कक्षा पूरी की। पिचाइ ने आई आई टी खरंगपुर सी बी टेक में डिग्री हासिल करी थी धातुकर्म इंजीनियरिंग में। जिसके बाद वो स्टेनफोर्ड विश्वविदयाल में अपनी आगे की पढाई करने चले गये थे | स्टेनफोर्ड विश्वविदयाल से एम एस की डिग्री प्राप्त करने के बाद पेनीसिलवेनिया विश्वविदयाल से एम बी ऐ करी थी जहां उन्हें क्रमशः सीबेल स्कॉलर और पामर स्कॉलर नामित किया गया। पिचाइ को शुरुआत से ही पढाई मे काफी दिलचस्पी थी। और उस दिलचस्पी का नतीजा आज पूरे देश के सामने है। उनकी पढाई मे रुचि के कारण ही आज उनहीने ये सफलता प्राप्त करी है और पूरे देश में उनका नाम है। कम उम्र में पिचाई ने प्रौद्योगिकी में रुचि और एक असाधारण स्मृति प्रदर्शित की, विशेष रूप से टेलीफोन नंबरों के लिए। दिसंबर 2017 में, पिचाई चीन में विश्व इंटरनेट सम्मेलन में एक वक्ता थे, जहां उन्होंने कहा था कि “गूगल” चीनी कंपनियों की मदद करने के लिए बहुत काम करता है। चीन में कई छोटे और मध्यम आकार के व्यवसाय हैं जो गूगल का लाभ उठाते हैं। चीन के बाहर कई अन्य देशों में अपने उत्पाद प्राप्त करें। 2021 में कथित तौर पर पिचाई को माइक्रोब्लॉगिंग सेवा ट्विटर द्वारा रोजगार के लिए आक्रामक रूप से आगे बढ़ाया गया था, और 2014 में उन्हें माइक्रोसॉफ्ट के संभावित सीईओ के रूप में देखा गया था, लेकिन दोनों ही मामलों में उन्हें गूगल के साथ रहने के लिए बड़े वित्तीय पैकेज दिए गए थे। उन्होंने अपने जीवन भर में कई अवार्ड प्राप्त करे है।

सुंदर पिचाइ की सफलता

पिचाई को 2016 और 2020 में टाइम पत्रिका के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों में शामिल किया गया था।दुनिया की सबसे बड़ी प्रौद्योगिकी कंपनियों में से एक के प्रबंधन के रूप में और लाखों ग्राहकों और गूगल सेवाओं और उत्पादों के उपयोगकर्ताओं के हितों का ध्यान रखने के साथ-साथ इसकी निरंतर वृद्धि सुनिश्चित करना एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। यह पूछे जाने पर कि बैठकों में परिणाम प्राप्त करने के लिए वह क्या करते हैं, उन्होंने कहा कि वह लोगों को बातचीत में शामिल करने की कोशिश करते हैं ताकि हर कोई भाग ले सके। यदि बैठकें आभासी नहीं हैं, तो वह वास्तव में एक-एक करके मेज के चारों ओर जाता है, और लोगों से अपनी स्थिति स्पष्ट रूप से बताने के लिए कहता है, यह सुनिश्चित करने के लिए कि बैठक में अंतर्मुखी लोगों की राय, दृष्टिकोण और स्टैंड सामने लाए जाते हैं।

सुंदर पिचाइ की जिंदगी

पिचाई 2004 में गूगल में शामिल हुए, जहां उन्होंने गूगल क्रोम सहित गूगल के क्लाइंट सॉफ़्टवेयर उत्पादों के एक समूह के लिए उत्पाद प्रबंधन और नवाचार प्रयासों का नेतृत्व किया। इसके अलावा, उन्होंने जीमेल और गूगल मैप्स जैसे अन्य अनुप्रयोगों के विकास की देखरेख की। 2010 में, पिचाई ने गूगल द्वारा नए वीडियो कोडेक वी पी 8 की ओपन-सोर्सिंग की भी घोषणा की और नया वीडियो प्रारूप, वेब एम पेश किया। क्रोमबुक 2012 में जारी किया गया था। 2013 में, पिचाई ने एंड्रॉइड को उन गूगल उत्पादों की सूची में जोड़ा, जिन्हें उन्होंने देखा था। उनकी मां, लक्ष्मी, एक आशुलिपिक थीं, और उनके पिता, रेगुनाथ पिचाई, ब्रिटिश समूह जीईसी में एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर थे। पिचाई ने अंजलि पिचाई से शादी की जो की एक भारतीय केमिकल इंजीनियर हैं जो वर्तमान में एक सॉफ्टवेयर कंपनी Intuit में बिजनेस ऑपरेशन मैनेजर के रूप में कार्यरत हैं और उनके दो बच्चे हैं। उनकी पुत्री भी गूगल में ही काम करती है। उनके मनोरंजक हितों में क्रिकेट और फुटबॉल शामिल हैं। गूगल के मालिक पिचाइ एक अमरीकी नागरिक हैं परंतु उनका कहना है की उन्हे भारत से काफी लगाव है और भारत सदेव उनके हृदय के करीब रहेगा। पिचाइ भारत की संस्कृति से काफी प्रेरित हैं। क्युकी उनका जन्म मद्रास में हुआ था उन्हे हिंदी बोलना नही आता था वह तमिल और अंग्रेज़ी काफी अच्छे से बोल लेते हैं उन्होंने हिंदी के कुछ शब्द अपने कॉलेज के दिनों में सीखे थे जिस डोरआन उन्हे हिंदी भाषा में काफी रुचि हुई थी परंतु अमेरिका में रहते हुए वे अंग्रेज़ी बोलना ही पसंद करते है।

गूगल किस देश की कंपनी है

गूगल किस देश की कंपनी है इसके बारे में आपको जानकारी होने जरुरी है हम आपको बता दे की ये अमेरिका की कंपनी है व इसका मुख्यालय अमेरिका के केलिफोर्निया में स्थित है ये जानकारी आपको हैरानी होगी की गूगल कंपनी में हाल में एक लाख से भी अधिक एम्प्लॉय कार्य करते है।

इस आर्टिकल में हमने आपको गूगल का मालिक कौन है व गूगल किस देश की कंपनी है इसके बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है की आपको हमारे द्वारा बताई गयी जानकारी जरूर पसंद आयी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करे।

गूगल के मालिक से रिलेटेड अकसर पूछे जाने वाले सवाल

गूगल का अविष्कार किसने क्या

गूगल का अविष्कार Larry Page और Sergey Brin था

गूगल की सुरुआत किसने की

गूगल की सुरुआत Larry Page और Sergey Brin ने की थी


Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Swati Singh

Hello friends मेरा नाम स्वाति है और मे एक content writer हु। Mujhe अलग अलग article पढ़ना aur उन्हे अपने सगब्दो में लिखने में बहुत रुचि है। Sometimes I write What I feel other times I write what I read

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button