EMI kya hai. | ईएमआई क्या है ?

Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हम लोगों में से ऐसे बहुत से लोग जो अपनी या अपनों की जरूरतों के हिसाब से कुछ ऐसी महंगी चीज लेते हैं जिनके लिए वो लोन लेते हैं या उधार ऐसे में एक और भी विकल्प होता हैं वो है ईएमआई (EMI) का जो आप किश्तों में चुका सकतें हैं, और आपने अक्सर मोबाइल फोन की कुछ दुकानों में लिखा देखा होगा जीरो प्रतिशत ब्याज के साथ ईएमआई पर फोन उपलब्ध। तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे की ईएमआई क्या हैं और किस किस समान पर ईएमआई लगती हैं।

ईएमआई क्या होती है?

ईएमआई (EMI) के पूरे नाम की बात करें तो इसे समेकित (समान) मासिक किश्त (equated monthly installment) कहते है।

ईएमआई एक रूप से मासिक किस्त जो एक निश्चित राशि के रूप में होता है। ये आपके द्वारा बैंक को हर महीने एक निश्चित तारीख पर देना या भुगतान करना होता है। जब भी हम ऐसा कोई लोन लेते है, जिसे हमें एक बार में चुकाना मुश्किल होता है ऐसे में बैंक हमें ये ऑप्शन देता है की हम ईएमआई लें और हर महीने की निश्चित तारीख पर एक तय अमाउंट हम उन्हें पेमेंट कर सके हर कोई अपनी पूंजी और सुविधा के अनुसार ईएमआई लेता है,क्यों की ईएमआई के भुगतान की भी एक समय सीमा होती हैं।

ईएमआई (EMI) में ब्याज भी शामिल है

ईएमआई भी भरते समय उसके ब्याज का भी भुगतान करना होता है। उधारण से समझते हैं जब हम किसी बैंक से या किसी कम्पनी से लोन लेते हैं, तो उसमें कुछ ब्याज यानी इंट्रेस्ट लागू किया जाता है। और फिर जैसे ही तय की गई ईएमआई भुगतान की तारिक आती है उसमें ब्याज दर को भी शामिल कर लिया जाता है। इसको सिंपल तरीके से कहें , जब लोन की किश्त जमा होती है तो उसमे ब्याज दर की भी कुछ राशि शामिल होगी।

ईएमआई कैसे काम करता है

ईएमआई के बारे में जान लिया अब जानते हैं की ईएमआई काम कैसे करता हैं। ईएमआई जानने के लिए थोड़ी कैलकुलेशन की समझ होना जरुरी होता है ऐसे हम आपको आसन शब्दों में समझाने की कोशिश करते हैं। आपने जो भी ईएमआई ली हैं उसे कुछ समय यानी की अवधी के हिसाब से बांट दिया जाता है, इसके बाद जो लोन है ईएमआई के तौर पर उसे मासिक किश्तों में जोड़ दिया जाता है। उदाहरण के लिए मान लीजिए किसी व्यक्ति ने 1 लाख का लोन ले लिया बिजनेस के लिऐ और जो ब्याज है वो 13.50 प्रतिशत (%) लगता है।तो अब जो लोन ईएमआई के रूप में चुकाना होगा यानी की अपने 2 साल में लोन चुकने की समय तय किया है।तो अपको 4778 ईएमआई के रूप में हर महीने जमा करना होगा, और देखा जाए तो आप 2 साल ने 1 लाख 30 हजार रुपये चुकाएंगे ये जो 30 हजार रूपए है वो 2 साल भर का ब्याज हैं।

ईएमआई का भुगतान कैसे किया जाता है

मासिक किश्त यानी ईएमआई के भुगतान करने के मुख्य रूप से दो तरीके हैं जिसमे पहला ऑनलाइन होता है, वहीं दूसरा ऑफलाइन के माध्यम से होता है। ईएमआई भुगतान के ऑनलाइन तरीके में आप अपने क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड से भुगतान कर सकते है। इसके लिए आपको बैंक की वेबसाइट पर जाना होगा और वहां अपना क्रेडिट या डेबिट कार्ड नंबर और जो भी डिटेल्स मांगे भर देते हैं तो आपके अकाउंट से मासिक किश्त के रूप में ये ईएमआई के रूपये कट जायेंगे। वहीं ऑफलाइन तरीके में आपको बैंक में जाकर नगद रुपए में भुगतान करना पड़ता हैं।

ईएमआई पर कौन-कौन से समान ले सकते है

ईएमआई एक तरीके से एक मिडिल क्लास फैमिली के लाभ दायक तभी है जब वो पूरी तरह से ईएमआई के रूप में लिया गया लोन चूका पाएं। ईएमआई आज की तारिक में आप हर समान ले सकते हो, चाहे वो फोन हो वॉशिंग मशीन हो, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण यानी जो भी इलेक्ट्रिक चीज़े भी मिलती हैं और होम लोन भी ईएमआई पर मिल सकता है।

ईएमआई आज की डेट में लगभग लोग लेना पसंद करते है खासकर एक ऐसा व्यक्ति जिसकी सैलरी अच्छी है और वो अपनें लिए घर लेना चाहता है ऐसे वो ईएमआई के रूप में ले सकता है। ईएमआई को वैसे थोड़ा सोच समझ के भी लेना चहिए क्यों की अगर आप आगे पेमेंट नहीं कर पाएंगे तो आपको जुर्माना देना पड़ सकता है।

डेबिट कार्ड से ईएमआई का एक नया तरीका है, जिसका उपयेाग करके आप अपने डेबिट कार्ड पर EMI का लाभ उठा सकते हैं।

आप जब भी कुछ बड़ा ईएमआई यानी इसके रूप में लोन लेने जा रहें हैं तो आपका जो बैंक सैटमेंट अच्छा होना चहिए, ताकि उन्हें यकीन हो की आप जो भी लोन लोगे उसे आप ब्याज सहित लौटा दोगे।

ईएमआई का जो सबसे अच्छा पैटर्न हैं की किश्तों के रूप में जमा करना हैं क्यों की ऐसे बहुत से परिवार हैं भारत में जो एक स्मार्ट फोन तक नहीं ले पाते हैं ऐसे में ईएमआई इनके लिए भी फायदेमंद है।

निष्कर्ष [ EMI kya hai ]

आप को अब पता लग गया होगा की EMI kya hai. और EMI आप का कैसे काम करता है सभी जानकरी आप को मिल गई होगी अगर आप का कोई भी प्रश्न है तो हमारे LinkedIn पर आप MSG कर सकते हो

Summary
ईएमआई  क्या है ?
Article Name
ईएमआई क्या है ?
Description
ईएमआई एक रूप से मासिक किस्त जो एक निश्चित राशि के रूप में होता है। ये आपके द्वारा बैंक को हर महीने एक निश्चित तारीख पर देना या भुगतान करना होता है। जब भी हम ऐसा कोई लोन लेते है, जिसे हमें एक बार में चुकाना मुश्किल होता है ऐसे में बैंक हमें ये ऑप्शन देता है की हम ईएमआई लें और हर महीने की निश्चित तारीख पर एक तय अमाउंट हम उन्हें पेमेंट कर सके हर कोई अपनी पूंजी और सुविधा के अनुसार ईएमआई लेता है,क्यों की ईएमआई के भुगतान की भी एक समय सीमा होती हैं।
Author
Publisher Name
योगेश शर्मा
Publisher Logo

Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply