ईमेल का आविष्कार किसने किया | Email ka Avishkar kisne kiya

Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हेलो दोस्तों, कैसे है आप सब ? हमें आशा है आप और आपके परिवारजन स्वस्थ्य और खैरियत है। हमारे हिंदी टॉप वेबसाइट पर आप सभी का स्वागत है। आज हम फिर आपके लिए नए जानकार पोस्ट लेकर आए है और आज आपको हम ऐसे विषय की जानकारी देंगे जिसके बिना आज हम कोई भी ऑनलाइन कार्य बिना इसके कर नहीं पाएंगे। यह विषय है ईमेल का आविष्कार किसने किया

आज वर्तमान में ऐसा कोई नहीं है जिसके पास ईमेल आईडी नहीं है, इसका उपयोग हर क्षेत्र में किया जाता है। आज ईमेल आईडी के बिना न आप बैंक में खाता खुलवा सकते है, न व्यवसाय कर सकते है, और न कोई एप्प इस्तेमाल कर सकते है।

ऑनलाइन में इस्तेमाल होने वाली हर चीज़ के लिए ईमेल आईडी अनिवार्य है, क्यूंकि यह आपकी इलेक्ट्रॉनिक आइडेंटिटी और उपस्थिति को दर्शाता है। आप अगर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर है, तो आपको अकाउंट खोलते वक़्त सबसे पहले इन एप्प्स में अपने ईमेल आईडी वेरिफिकेशन करना पड़ता है वरना आप इन एकाउंट्स को एक्टिवटे नहीं कर पाएंगे। अगर आप मोबाइल भी खरीदते है तो आपको मोबाइल के सेटिंग्स में ईमेल आईडी के द्वारा ही निवेश मिलेगा और आप फिर मोबाइल का उपयोग कर सकते है। चलिए आपको हम ईमेल आईडी के बारे में विस्तार में बताते है.

ईमेल क्या है

ईमेल का मतलब होता है इलेक्ट्रॉनिक मैसेज जो हम पूरी दुनिये में किसीको भी भेज सकते है। ईमेल एक प्रकार का मैसेज अकाउंट है जो किसी भी व्यक्ति का डिजिटल यानि इलेक्ट्रॉनिक आइडेंटिटी है। वर्तमान काल में ईमेल आईडी में काफी फीचर्स में बदलाव के कारण, इसका उपयोग मेस्सजिंग के अलावा, वीडियो कालिंग, ऑडियो कालिंग, ऑनलाइन मीटिंग्स में भी किया जा रहा है।

ईमेल का आविष्कार किसने किया

साल 1978 में ईमेल का आविष्कार हुआ, और इसे बनाने वाले हमारे भारतीय वैज्ञानिक वि ए शिवा अन्नादुरै ने किया था। अमेरिका में अपना एजुकेशन करते वक़्त उन्होंने ईमेल का निर्माण किया, लेकिन इस अविष्कार की मान्यता उन्हें साल 1982 में अमेरिकन सरकार ने नवाज़ा। साल 1982 में अन्नादुरै ने ईमेल के कॉपीराइट अपने नाम करवाई थी और इस इंटरनेट की प्रथम सुविधा को इन्होने बाद में दुनिया को दिखाया।

वि ए अन्नादुरै कौन थे

वि इ अन्नादुरै भारत के किसानो के परिवार से थे जहां उनकी जाती नीचे वर्गीय थी, इसी वजह से उन्हें अपने आप को शिक्षित करने के लिए काफी कठिनाई का सामना करना पड़ा था। अनंदुरई के पिता आजादी के युद्ध के समय में बड़े हुए और इसी कारण वो अपनेआप को शिक्षित नहीं कर पाए। साल 1970 में जब अन्नादुरै मात्र 7 साल की उम्र में संयुक्त राज्य अमेरिका चले गए थे, और बस वही से उन्हें पढाई में काफी रूचि आ गई। जब भी वह भारत आते, उन्हें एहसास होता की उन्हें काफी सौभाग्य मिला है और वो दुनिया में अपना आविष्कार का योगदान देना चाहते थे।

वि ए अन्नादुरै को ईमेल का सुझाव कैसे मिला

साल 1978 की बात करें, तो उस समय न पीसी, न ही स्मर्टफ़ोने और न कोई लैपटॉप का इस्तेमाल किया जाता था। उस समय सिर्फ जानकार व्यक्ति जैसे प्रोग्रामर्स, विशेषज्ञ, आदि वर्गीय लोगों को ही कंप्यूटर का उपयोग करने आता था। अन्नादुरै ने ईमेल इंटरकनेक्शन का इस्तेमाल इंटरनेट के जरिये बनाया क्यूंकि वह काफी अच्छे कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के जानकार थे। ईमेल को एक मेस्सजिंग माध्यम के तौर पर उन्होंने शुरू किया जिसमे कुछ सुविधाओं को उन्होंने ईमेल अकाउंट में सेटअप किया था जैसे की आउटबॉक्स, इनबॉक्स, एड्रेस बुक और रेसाइक्लि बीन।

ईमेल काम कैसे करता है ?

आप अगर किसीको इलेक्ट्रॉनिक मेल भेजना चाहते है, तो सिंपल मेल ट्रांसफर प्रोटोकॉल ईमेल प्रोटोकॉल है जो हम ईमेल भेजने और प्राप्त करने में इस्तेमाल करते है। आपको ईमेल यानि किसीको सन्देश भेजने के लिए सामने वाले का अड्रेस यानि रिसीवर अड्रेस का होना जरुरी है। जभी यूजर ईमेल सेंड करता है, तो ईमेल टेक्स्ट के साथ साथ कोई अटैचमेंट भी भेज सकता है। यह अटैचमेंट कोई फोटोकॉपी, जेपीजी फॉर्मेट, टेक्स्ट फॉर्मेट, डॉक्स फॉर्मेट, पीडीएफ आदि जैसे फोर्मट्स होते है। अगर रिसीवर का एड्रेस गलत होता है, तो आपको ईमेल अकाउंट में ईमेल ट्रांसफर फ़ैल होने के नोटिफिकेशन मिल जाता है।

फ्री ईमेल सर्विस प्रोवाइडर्स कौन से है

आज के इंटरनेट की दुनिया सबसे चर्चित और फ्री ईमेल आईडी सर्विस प्रोवाइडर्स है

  1. जीमेल
  2. याहू मेल
  3. आउटलुक मेल
  4. जोहो मेल

इनके अल्वा बहुत सरे फ्री ईमेल प्रोवाइडर्स है पर वर्त्तमान काल में यह चार काफी पॉपुलर ईमेल साइट्स है। आप इन सर्विस प्रोवाइडर्स में मुफ्त में अपना ईमेल आईडी बनवा सकते है बिना किसी साइन इन राशि के।

अपना ईमेल आईडी कैसे बनाए

यदि आप नया ईमेल आईडी क्रिएट करना चाहते है तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करिये, हम आपको ईमेल आईडी जीमेल पर कैसे बनाया जाए इसकी जानकारी देंगे, उसी प्रकार आप दूसरे साइट्स पर इसी तरह अपना ईमेल आईडी बना सकते है

  • सबसे पहले आपको अपने मोबाइल फोन या फिर कंप्यूटर या लैपटॉप पर web ब्राउज़र www.gmail .com टाइप करना होगा।
  • क्लिक करने पर आपको जीमेल के ईमेल अकाउंट खुलेगी जिस पर नीचे दिए गए क्रिएट अकाउंट पर आपको क्लिक करना होगा।
  • क्रिएट जीमेल अकाउंट पर क्लिक करते ही आपको अपने डिटेल्स जैसे की आपका यूजरनाम , नाम , पासवर्ड , आपका मोबाइल नंबर इत्यादि भरना होगा। आपका यूजरनाम जरा अलग और पासवर्ड में आपको शब्दों के साथ स्पेशल करक्टेर्स का इस्तेमाल करना होगा , उदाहरण के तौर पर अगर आपका नाम सोना अरुमुगम है तो आप अपना डिटेल्स इस प्रकार भर सकते है :
  • यूजरनाम – sona6391 और पासवर्ड – सोना#228 इस प्रकार रख सकते है। इसके बाद आपको आपको नीचे नेक्स्ट ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • फिर आपको रिकवरी ईमेल आईडी और अलटरनेट मोबाइल नंबर डालना होगा यानि अगर आप अपना यूजरनाम और पासवर्ड भूल जाते है तो आपको इन अलटरनेट मोबाइल नंबर और अलटरनेट ईमेल आईडी का उपयोग कर अपना अकाउंट में login कर सकते है।
  • इसके बाद आप नेक्स्ट में क्लिक करते ही आपको प्राइवेसी एंड टर्म्स का पेज खुल जाएगा ,नीचे आपको आई एग्री पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपका जीमेल अकाउंट खुल जाएगा , आप जीमेल अकाउंट सेटिंग्स पर जाकर अपने उपर्युक्त बदलाव कर सकते है।
  • आपके अकाउंट के इनबॉक्स में आपको मोबाइल नंबर Verify करना होगा, इससे आपका मोबाइल नंबर आपके जीमेल अकाउंट से लिंक हो जाएगा।

ईमेल आईडी आजके दौर का डाटा ट्रांसफर के लिए एक बेहतरीन साधन है, हमे आज के जीमेल में कई सारी फीचर्स मिलती है, जैसे वीडियो कालिंग, ऑडियो कालिंग, आदि जो सिर्फ मेस्सजिंग तक सीमीत नहीं है। ईमेल के शुरुवात से लोग एक देश से दूसरे देश से इंटरनेट के माध्यम से जुड़ पाए है।

निष्कर्ष

हमें आशा है आपको हमारी जानकारी “ईमेल का आविष्कार किसने किया” से काफी लाभ हुआ हो और आगे भी इसी प्रकार हम आपको कई नै जानकारिया हमारे वेबसाइट से पहुंचाएंगे। हम इसी प्रकार आपके लिए नए नए जानकारी आर्टिकल्स हमारे हिंदी टॉप वेबसाइट पर ले आएँगे हमारे साथ हमारे वेबसाइट पर इसी तरह बने रहिये। हमारे आर्टिकल से अंत तक जुड़ने के लिए धन्यवाद् और आप इस पोस्ट को लाइक, शेयर और कमेंट जरूर करियेगा और आपका कोई सुज़हाव अगर इस पोस्ट में आपको देना हे तो हमसे जरूर शेयर कीजिये । इससे हमें और जानकारी बटोरने में प्रेरणा मिलेगी। आपका धन्यवाद्।


Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply