Festival

प्रवासी भारतीय दिवस कब मनाया जाता है और क्यों मनाया जाता है

Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रवासी भारतीय दिवस (Non-Resident Day) भारत सरकार द्वारा आयोजित एक तीन दिवसीय कार्यक्रम होता है। इस कार्यक्रम में देश के राष्ट्रपति द्वारा उन प्रवासी भारतीयों को पुरुस्कृत किया जाता है जिन्होंने अपने क्षेत्र में विशेष कार्य करके भारत के विकास में योगदान दिया है। तो चलिए जानते है हम आज प्रवासी भारतीय दिवस कब मनाया जाता है और प्रवासी भारतीय दिवस क्यों मनाया जाता है

प्रवासी भारतीय कौन है

वे भारतीय जो भारत के बाहर विदेश में रहते हैं उन्हें प्रवासी भारतीय कहा जाता है, ये NRI यानि की Non resident Indian के तौर पर भी जाने जाते है। प्रवासी भारतीय विश्वभर के कई अलग-अलग देशों में निवास करते है तथा देश के विकास में विशेष भूमिका निभाते हैं।

प्रवासी भारतीय दिवस की शुरुआत कैसे हुई

आजादी के पूर्व 18वी शताब्दी में गुजरात प्रदेश के व्यापारी कई दूसरे देशों में गए जिनमें से दादा अब्दुल्ला सेठ भी एक थे, इनके कानूनी प्रतिनिधि के तौर पर महात्मा गांधी भी उनके साथ गए। ये दक्षिण अफ्रीका के नटाल प्रांत में पहुंचे जहां इन्हें रंग भेदभाव का शिकार होना पड़ा। जिसके बाद महत्मा गांधी ने हार नहीं मानी और  इसके खिलाफ आवाज़ उठाई। गांधी जी ने देश के प्रवासी भारतीयों के लिए संघर्ष किया और कई प्रयास किए जिसमें उनकी जीत हुई। वर्ष 1915, 9 जनवरी के ही दिन महात्मा गांधी जी साउथ अफ्रीका से 22 साल के बाद भारत लौटे थे, जिसके बाद से ही इस दिवस को मनाने की प्रथा चालू हुई क्योंकि गांधीजी को सबसे बड़ा भारतीय प्रवासी माना जाता है।

प्रवासी भारतीय दिवस कब मनाया जाता है

प्रवासी भारतीय दिवस को मनाने का प्रस्ताव सर्वप्रथम लक्ष्मीमल समिति द्वारा दिया गया था, साल 2018 में 18 अगस्त के दिन इस समिति ने सरकार को अपनी रिपोर्ट दी थी जिसके उपरांत वर्ष 2003 में प्रथम बार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई द्वारा प्रवासी दिवस को नई दिल्ली में आयोजित किया गया। यह दिवस पहले प्रत्येक वर्ष मनाया जाता था, लेकिन वर्ष 2016 में विदेश मंत्रालय द्वारा इसे वर्ष में दो बार मनाने का निर्णय लिया गया जिसके बाद यह दो वर्ष में एक बार मनाया जाने लगा।

प्रवासी दिवस कब-कब और कहां मनाया गया

  • सर्वप्रथम 2003, में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई जी द्वारा नई दिल्ली में आयोजित किया गया
  • वर्ष 2004 में नई दिल्ली में आयोजित किया गया
  • वर्ष 2005 में मुंबई में आयोजित किया गया
  • वर्ष 2006 में हैदराबाद में आयोजित किया गया
  • वर्ष 2007 में नई दिल्ली में आयोजित किया गया
  • वर्ष 2008 में नई दिल्ली में आयोजित किया गया
  • वर्ष 2009 में चेन्नई में आयोजित किया गया
  • वर्ष 2010 में नई दिल्ली में आयोजित किया गया
  • वर्ष 2011 में नई दिल्ली में आयोजित किया गया
  • वर्ष 2012 में जयपुर में आयोजित किया गया
  • वर्ष 2013 में कोच्चि में आयोजित किया गया
  • वर्ष 2014 में नई दिल्ली में आयोजित किया गया
  • वर्ष 2015 में गांधीनगर में आयोजित किया गया
  • वर्ष 2017 में बेंगलुरु में आयोजित किया गया
  • वर्ष 2019 में काशी में आयोजित किया गया
  • वर्ष 2018 में प्रवासी भारतीय दिवस देश के बाहर विदेश में सिंगापुर में मनाया गया।

प्रवासी दिवस को मनाने के मुख्य उद्देश्य

  • इस कार्यक्रम को आयोजित करने का मुख्य उद्देश्य प्रवासी भारतीयों को एक ऐसा मंच प्रदान करना है, जहां पर वे स्वदेश के प्रति अपनी भावनाओं को व्यक्त कर पाएं।
  • भारतीय प्रवासी विश्व के कई अलग-अलग देशों में रहते हैं, विभिन्न देशों में होने के कारण, प्रवासियों की समस्याएं भी भिन्न होती है जहां वो इस कार्यक्रम के तहत भारत सरकार के समक्ष रखती है। यहां उनकी समस्याओं को सुना जाता है तथा उनके निवारण करने का प्रयास किया जाता है, जो की एक बहुत बड़ी चुनौती है।
  • प्रवासी भारतीय दिवस के तहत प्रवासी, अप्रवासी भारतीयों तथा युवाओं से जुड़ पाते हैं, ये देश की अर्थव्यस्था में काफी अहम भूमिका निभाते हैं। 

वर्ष 2021 में कोविड को ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 16वां प्रवासी भारतीय दिवस, दिल्ली से वर्चुअली आयोजित किया था। इसका विषय “आत्मनिर्भर भारत में योगदान” था जिसके मुख्य अतिथि सूरीनाम के राष्ट्रपति चंद्रिकाप्रसाद संतोखी जी थे।

निष्कर्ष

तो आज हम ने जाना प्रवासी भारतीय दिवस कब मनाया जाता है और प्रवासी भारतीय दिवस क्यों मनाया जाता है और प्रवासी भारतीय दिवस क्या है अगर आप को हमारी यह जानकारी पसंद आई होगी तो इस आर्टिकल को शेयर जरूर करे


Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Kajal kori

मेरा नाम काजल कोरी है,मैं एक हिन्दी कंटेन्ट राइटर हूँ और मुझे लिखने का शौक है|

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button