एटीएम क्या है ? | ATM kya hai.

Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

एटीएम मशीन इसे अपने कई बार सुना होगा क्यों की आज ये लगभग हर बाज़ार या सड़को पर देखने को मिल जो जाता है। अगर पहले की बात करें तो हम लोगों को जब भी रूपयों की जरूरत होती हम लोगों को बैंक जाके वहां विड्रोल मनी या चेक के माध्यम से निलकवाना होता था। अब अगर आज की तारिक में हमारे पास एटीएम कार्ड होता हैं तो हम एटीएम मशीन पर पर जा कर कभी भी रुपए निकाल सकते हैं तो ऐसे ही एटीएम कार्ड और एटीएम मशीन से जुड़ी कुछ जनकारी अपको इस आर्टिकल में जानने को मिलेगी एटीएम क्या है क्यों की हम में से बहुत से लोगों को जानकारी नहीं होती हैं।

एटीएम क्या हैं ?

एटीएम (ATM) का फुल फॉर्म यानी की इसका पूरा है ऑटोमैटिक टेलर मशीन (Automatic Teller Machine)। ये एक इलेक्ट्रॉनिक टेलर मशीन होती है। जिसमे कोई भी एक बैक अकाउंट वाला व्यक्ति इसका प्रयोग कर सकता है। इसमें आप अकाउंट सम्बन्धी ट्रांसेक्शन कर सकते हैं।

यहाँ जो भी खाता धारक व्यक्ति अपने अकाउंट से एक्सेस यानि अपने अकाउंट को परमिशन दे कर अपने अकांउट से जब चाहे एटीएम कार्ड के मध्यम से जब चाहे रुपए निकाल सकता है।ये जो कार्ड होता है इसे प्लास्टिक मनी के रूप में भी प्रयोग किया जाता है। इसमें मैग्नेटिक स्ट्रिप (Magnetic Strip) होती है जिसमे आइडेंटिफिकेशन (Identification) कोड होता है तो जब एटीएम यूजर अपना एटीएम कार्ड मशीन में इम्पोर्ट करता है तो मशीन आटोमेटिक उस कोड एक्सेस (Access) कर लेता है फिर अपना ट्रांसक्शन करना प्रारम्भ किया जाता है।

दुनिया में पहली बार 1967 में एटीएम का प्रयोग किया गया था तब से लेकर 50 साल के अंदर में पुरे वर्ल्ड में ये हर जगह फ़ैल चुके हैं. हर प्रमुख देश या छोटा देश भी आप चले जाएँ आपको एटीएम जरूर दिखाई देगा।

यह भी पढ़े – क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाये

एटीएम मशीन कैसे काम करता है?

  1. एटीएम को एक प्रकार से डाटा टर्मिनल कहा जाता है जिसमें 2 इनपुट और 4 आउटपुट डिवाइस होते हैं। इसे समझना थोड़ा टेक्निकल हैं क्यों की आखिर ये तकनीक पर आधारित जो है।
  2. इसके जो इंटरनेट सर्विस प्रोवाइड आईएसपी (ISP) से जुड़ा होता है, जिसमें एटीएम नेटवर्क से जुड़ा होता है और इसी के माध्यम से जिनके पास एटीएम कार्ड ( Debit Card ) होता है वो इसी सर्विस का इस्तेमाल कर रुपए प्राप्त करते हैं।
  3. इस पालस्टिक के एटीएम एक मैग्नेटिव स्ट्रिप लगा होता है, जिसमें आपके अकाउंट की सारी जानकारी लिखी होती है। और फीर अकाउंट की डिटेल बैंक के पास जाती है जिसके बाद आपने जितने रुपए फील यानी लिखें होंगे मशीन में वो आपको प्राप्त हो जायेंगे।

एटीएम मशीन के फायदे क्या है ?

  1. आप जब भी एटीएम कार्ड एटीएम मशीन में स्वाइप अप करने यानी की एटीएम मशीन डालेंगे तो इस चिप में अपके बैक से जुड़ी सारी जानकारी मशीन पढ़ लेती है, और आपका अकांउट किसी भी बैंक में आप सब बैंको के एटीएम से रुपया निकाल सकते हैं।
  2. सबसे बड़ी बात ये है कि एटीएम में एक 4 अंक का पिन का इस्तेमाल होता हैं जिससे अगर एटीएम खो भी जाए तो कोई दूसरा व्यक्ति उस एटीएम को प्रयोग नहीं कर सकता है, क्यों की पिन अपको पता होगा लेकिन इसके बावजूद आपको अपने बैंक में जाके या कॉल कर के अपने एटीएम कार्ड को ब्लॉक करवाना होगा 24 घंटे के अंदर।
  3. एटीएम कार्ड होने से आप जब भी चाहे रुपए निकाल सकतें है फिर चाहे तो आप एटीएम कार्ड से बाज़ार में खरीदारी करने के बाद एटीएम से भी पे यानी की पेमेंट कर सकते हैं।
  4. एटीएम बहुत तेज़ कार्य करता है।
  5. इसकी सेवा 24 HOUR रहती है।

एटीएम से रुपए निकालने का तरीका

ATM के बारे में तो अब तक अपको काफी कुछ पता चल गया चलिए अब जानते है की एटीएम से रुपए कैसे निकले जाते हैं। l

  1. सबसे पहले एक एटीएम मशीन जहां हैं वहां जाइए अगर जिस बैंक में आपका अकाउंट उसी एटीएम पर वरना आप किसी भी एटीएम से रुपया प्राप्त कर सकते हैं।
  2. अब अपना एटीएम कार्ड मशीन में डालें, जिसके बाद एटीएम आपको कई निर्देश देगा, अपको कार्ड सही ढंग से डालना हैं वरना एटीएम कार्ड सही रीड यानी पढ़ नहीं पाएगा।
  3. जैसे ही एटीएम कार्ड रीड कर लेगी वो आपके सामने भाषा का चुनाव करने के लिए बोलेगी अंग्रेजी की हिंदी। आप अपनें सुविधा के अनुसार चुन लीजिए।
  4. अब वो आपसे पिन कोड मांगेगा जो अपने बैंक आपको एटीएम देते समय देता है, जो किसी को भी नहीं बताना होता है।
  5. पिन को दर्ज करने के बाद एक स्क्रीन ओपन होगी अब अपको अपने अकाउंट का टाइप का चयन करना होगा। जैसे की बचत बैंक खाता (Saving Account) या चालू बैंक खाता (Current Account) जो भी हो आप उसका उचित लगे कर सकते हैं।
  6. अकाउंट के प्रकार का चयन करने के बाद आपको वो राशि (amount) डालनी होगी, यानी की जितना रुपए आपको निकलना है वो एटीएम से आप एक निश्चित रकम ही निकल सकतें हैं तो इस बात का ध्यान दें।
  7. रुपया दर्ज करने के बाद मशीन पर ओके को क्लिक करना है और अब अपके पास कुछ ही समय में पैसे निकल आएंगे।
  8. इस तरह आपका पहला ट्रांजक्शन पूरा हो जाता है।
  9. यदि आप पुनः पैसे निकालना चाहते हैं, तो इसका भी विकल्प वहाँ दिया हुआ रहता है. बाकि यदि आप समाप्त (cancel) का ऑप्शन पर क्लिक कर दें तब आपका ट्रांजैक्शन (transaction) वहीँ समाप्त हो जायेगा।

एटीएम कार्ड कैसे प्राप्त करें ?

एटीएम कार्ड प्राप्त करना के लिए आवेदन करने का जो प्रोसेस है, बहुत ही आसान है।आपका बैंक अकाउंट चाहे किसी भी बैंक में आप ऑफलाइन या ऑनलाइन के माध्यम से आवेदन कर के प्राप्त कर सकते हैं।जो जरुरी दस्तावेज हैं जो आपको एटीएम कार्ड का आवेदन करने के लिए चाहिए होगा।बैंक की पासबुक की फोटो कॉपी, अपको की फोटो, पहचान पत्र की फोटो कॉपी, बैंक की डिटेल की आपने कब अकाउंट खोला था, डाक पता,पिन कोड: मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी अगर ईमेल आईडी नहीं हैं तो आप नही भी भर सकते हैं,अतिरिक्त भाषा का चुनाव कर सकते हैं जैसे इंग्लिश की जगह हिंदी या जो भी भाषा में अपको सही लगे। सब प्रोसेस करने के बाद आपको 24 घंटे के अंदर मिल जायेगा अगर कोई समस्या नहीं होगी।

निष्कर्ष [ ATM kya hai ]

आप को हमारी यह जानकारी एटीएम क्या है पसंद आई होगी तो आप हमारे इस ब्लॉग को शेयर जरुर कर दे और हमारे Hindi Top ब्लॉग को फॉलो कर ले

Summary
ATM क्या है
Article Name
ATM क्या है
Description
एटीएम (ATM) का फुल फॉर्म यानी की इसका पूरा है ऑटोमैटिक टेलर मशीन (Automatic Teller Machine)। ये एक इलेक्ट्रॉनिक टेलर मशीन होती है। जिसमे कोई भी एक बैक अकाउंट वाला व्यक्ति इसका प्रयोग कर सकता है। इसमें आप अकाउंट सम्बन्धी ट्रांसेक्शन कर सकते हैं।
Author
Publisher Name
योगेश शर्मा
Publisher Logo

Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply