Affiliate Marketing kya hai.

Affiliate Marketing क्या है ? और कैसे करे

Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

आज कल जो भी व्यक्ति जब भी अपना स्टार्टअप या बिजनेस को बढ़ाने की सोचता है तो वो उसके प्रचार प्रसार के बारे में भी सोचता है क्यों की आज कल तो अधिकतर लोग ऑफलाइन के साथ ऑनलाइन यानी की डिजिटल मार्केटिंग करते हैं और डिजिटल मार्केटिंग के माध्यम से लोग अपने व्यापार या स्टार्ट अप का प्रचार भी कर रहे है।

तो आज के आर्टिकल में हम अपको बताएंगे डिजिटल मार्केटिंग के एक ऐसे प्रकार के बारे में जो आपके व्यापार को बढ़ावा देने में आपकी सहायता जरूर करेगा। जिसका नाम है अफिलिएट मार्केटिंग।

अफिलिएट मार्केटिंग क्या है

अफिलिएट मार्केटिंग डिजिटल मार्केटिंग का ही एक प्रकार है। जिसके अंतर्गत कोई व्यापारी अपने व्यापार को बढ़ावा देने के लिए किसी ब्लॉगर या वेबसाइट से संपर्क कर के अपने प्रॉडक्ट या बिजनेस का लिंक देता है। अब वो ब्लॉगर या वेबसाइट अपने आर्टिकल में व्यापारी द्वारा दिए लिंक को इस प्रकार से प्रस्तुत करता है की पढ़ने वाला व्यक्ति उस लिंक को क्लिक करें और उस व्यापारी के पेज पे पहुंचे। जब वह व्यक्ति, व्यापारी या कंपनी की साइट पे साइन अप करता या कुछ खरीदता है, तो उस ब्लॉगर या वेबसाइट को कुछ कमीशन के तौर पर पैसे मिलते हैं। इसके माध्यम से आप अपने व्यापार को आसानी से लोगों से जोड़ते हो और आपके पेज पर काफी लोग है जिससे प्रतिक्रियां तेज़ हो जाती है।

आइए अब समझते हैं कि अफिलिएट मार्केटिंग कैसे की जाती है?

अफिलिएट मार्केटिंग करने के लिए जो भी कंपनी, व्यापारी या आर्गेनाइजेशन अपने प्रोडक्ट को आम जन तक प्रमोट करना चाहती हैं, तो अफिलिएट प्रोग्राम करवाती है। जिससे कई सारे डेली ब्लॉगर या वेबसाइट उस प्रोग्राम को भाग लेते हैं और उस कम्पनी, व्यापारी या आर्गेनाइजेशन के लिंक को लेती है और अपने ब्लॉग में या वेबसाईट में आर्टिकल लिख के उस लिंक को डालती है। इसके अलावा व्यापारी किसी ब्लॉगर या वेबसाइट से डायरेक्ट बात कर के भी उनको लिंक दे सकता हैं, जो वो अपने आर्टिकल में डाले और पढ़ने वाले व्यक्ति को आकर्षित करें। वह उस व्यापारी की साइट पे जाएंगे और प्रतिक्रिया व्यक्त करते है.।

अफिलिएट मार्केटिंग के कुछ भाग भी हैं, तो उन्हें भी समझते हैं

आज कल देश में बहुत सी बड़ी बड़ी कंपनियां अफिलिएट मार्केटिंग का सहारा ले रही हैं फिर चाहे वो अमेजन हो या फ्लिपकार्ट ये सब भी, तो इसके भाग इस प्राकार हैं।

अफिलिएट(Affiliates)

आफिलिएट्स उन्हें कहा जाता है जो ब्लॉगर या वेबसाइट किसी कंपनी, व्यापारी या आर्गेनाइजेशन के प्रोडक्ट को प्रमोट करवाने के उद्देश से अफिलिएट प्रोग्राम को करके, उनके प्रोडक्ट को अपने ब्लॉग या वेबसाइट से प्रमोट करते हैं।

आफिलिएट मार्केट प्लेस (Affiliate Marketplace)

कुछ ऐसी कंपनीज है जो अलग-अलग विषयों में आफिलिएट प्रोग्राम ऑफर करती हैं, तो उन्हें आफिलिएट मार्केट प्लेस कहते हैं।

आफिलिएट आईडी ( Affiliate ID )

आफिलिएट प्रोग्राम के द्वारा हर एक ब्लॉगर या वेबसाइट के सदस्य को आफिलिएट आईडी यूनिक आईडी दी जाती है, जो सेल्स की जानकारी जुटाने में सहायता करती हैं जैसे किस ब्लॉगर और वेबसाईट की वजह से समान सेल हुआ और किससे नहीं।

आफिलिएट कमीशन ( Affiliate Commission )

जैसा कि पहले ही बता चुके हैं, की कमीशन उस ब्लॉगर या वेबसाइट को मिलता है जिसके माध्यम से कंपनी या व्यापारी की साइट पे लोग आए या सामान खरीदा। इसमें दोनो लोग पहले ही तय कर लेते है की सेल्स से कुछ कमीशन या कंपनी कोई निश्चित राशि ब्लॉगर या वेबसाइट को मिल जायेगी।

लिंक क्लॉकिंग ( Link clocking )

हिंदी ज्यादातर आफिलिएट लिंक्स लंबे हो जाते हैं डाइजिंग के समय ऐसे में लिंक को यूआरएल शॉर्ट्स का प्रयोग करके छोटा करना होता है इसे लिंक लॉकिंग कहते हैं। जो आफिलिएट लिंक्स को छोटा करने में सहायता करती है।

आफिलिएट मैनेजर: ( Affiliate Manager )

आफिलिएट प्रोग्राम के द्वारा आफिलिएट्स की मदद के लिए कुछ व्यक्तियों को नियुक्त किये जाते है, वे आफिलिएट मेनेजर कहलाते हैं। इनका काम आफिलिएट्स (ब्लॉगर या वेबसाइट के सदस्य) से कुछ सुझाव लेने और देने का काम सौंपा जाता है।

पेमेंट मोड ( Payment mode )

इसका अर्थ है की जिसके द्वारा आपको आपकी कमीशन या पेमेंट दी जायेगी। अलग-अलग आफिलिएट्स (ब्लॉगर या वेबसाइट के सदस्य) अलग-अलग तरीके से पेमेंट का भुगतान किया जाता है, जैसे कि यूपीआई ट्रांसफर, गूगल पे, पेटीएम आदि।

पेमेंट थ्रेशोल्ड ( Payment threshold )

वह न्यूनतम राशि जिसे जब आप जब अर्न कर लेंगे तो आपको आपकी जो भी यानी की ब्लोगर को पेमेंट की जायेगी। अलग-अलग प्रोग्राम के पेमेंट को पेमेंट थ्रेशोल्ड ही कहा जाता है।

एक बात जो इस आफिलिएट मार्केटिंग से समझ आती है इसमें एक कंपनी का तो फायदा तो होगा ही है क्यों की उसके वेबसाईट पे इतने लोग विजिट जो करेंगे और साथ ही उन ब्लोगर और वेबसाईट को भी फायदा होगा ही।

आज डिजिटल मार्केटिंग ( Digital Marketing ) में आफिलिएट मार्केटिंग धीरे धीरे जोर पकड़ रही है क्यों की आफिलिएट मार्केटिंग अपने वेबसाईट को आम जन को जोड़ने में सहायता तो करती ही हैं साथ ही देश के हर कोने में आपका व्यापार पहुंच सकता है क्यों की हर किसी के पास आज स्मार्ट फोन है और स्मार्ट फोन से लोग अपने व्यापार को नया आयाम दे ही रहें है।

निष्कर्ष

आप को इस आर्टिकल में सब पता लग गया होगा की Affiliate Marketing क्यों करते है? और कैसे क्या जाता है? अगर आप को कोई भी प्रश्न है तो आप हम को कमेन्ट कर के बता सकते है.

Summary
Article Name
Affiliate Marketing क्या है ?
Description
अफिलिएट मार्केटिंग डिजिटल मार्केटिंग का ही एक प्रकार है। जिसके अंतर्गत कोई व्यापारी अपने व्यापार को बढ़ावा देने के लिए किसी ब्लॉगर या वेबसाइट से संपर्क कर के अपने प्रॉडक्ट या बिजनेस का लिंक देता है। अब वो ब्लॉगर या वेबसाइट अपने आर्टिकल में व्यापारी द्वारा दिए लिंक को इस प्रकार से प्रस्तुत करता है की पढ़ने वाला व्यक्ति उस लिंक को क्लिक करें और उस व्यापारी के पेज पे पहुंचे। जब वह व्यक्ति, व्यापारी या कंपनी की साइट पे साइन अप करता या कुछ खरीदता है, तो उस ब्लॉगर या वेबसाइट को कुछ कमीशन के तौर पर पैसे मिलते हैं। इसके माध्यम से आप अपने व्यापार को आसानी से लोगों से जोड़ते हो और आपके पेज पर काफी लोग है जिससे प्रतिक्रियां तेज़ हो जाती है।
Author
Publisher Name
योगेश शर्मा

Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Yogesh Sharma

नमस्कार दोस्तों, में योगेश शर्मा, Hindi Top का Digital Marketing Author & Co-Founder हु. अगर में अपनी बात करता हु तो मेरे Digital Marketing में 2 साल का experience है. मेरे को Digital Marketing की New Update दखने में और दुसरो को सिखाने में बड़ा मजा आता है. आप Hindi Top के साथ बने रहो आप रोज नई-नई चीजो को सिख्नते रहोगे!

View all posts by Yogesh Sharma →

Leave a Reply