Tutorial

आसमान नीला क्यों होता है | Aasman Neela kyon hota hai

Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

आकाश ने हमेशा लोगों को मोहित किया है। बहुत से धार्मिक लोग मानते हैं कि स्वर्ग आकाश में है। लेकिन आकाश का एक और पहलू जिसने लोगों को हैरान किया है वह है आकाश नीला क्यों दिखाई देता है। लोग अक्सर पूछते हैं, “आसमान नीला क्यों होता है ?”

तो क्या आप भी जानना चाहते हैं कि आसमान नीला क्यों दिखता है ? वास्तव में यह गूगल पर सबसे अधिक बार खोजे जाने वाले प्रश्नों में से एक है। इस अर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि आसमान नीला क्यों होता है ?

आकाश का रंग नीला क्यों दिखाई देता है

जब सूर्य का प्रकाश पृथ्वी के वायुमंडल में पहुंचता है तो वह हवा में गैस के छोटे कण (ज्यादातर नाइट्रोजन और ऑक्सीजन) द्वारा बिखरा हुआ होता है। चूंकि ये कण दृश्य प्रकाश की तरंग दैर्ध्य से बहुत छोटे होते हैं, इसलिए प्रकीर्णन की मात्रा तरंग दैर्ध्य पर निर्भर करती है। इस प्रक्रिया को रेले स्कैटरिंग कहा जाता है। इसका नाम लॉर्ड रेले के नाम पर रखा गया था।

छोटी तरंगदैर्घ्य (बैंगनी और नीला) सबसे अधिक तीव्रता से बिखरे होते हैं इसलिए अन्य रंगों की तुलना में हमारी आंखों की ओर नीला अधिक बिखर जाता है।

नीला प्रकाश जो आकाश को अपना रंग देता है, वह इतना चमकीला होता है कि रात में हम जो भी तारे देखते हैं, वे गायब हो जाते हैं क्योंकि वे जो प्रकाश छोड़ते हैं वह बहुत मंद होता है।

आसान शब्दों में कहें तो वातावरण में धूल और मिट्टी के बहुत छोटे-छोटे कण मौजूद होते हैं और जब सूरज का प्रकाश इन कणों पर पड़ता है तो ये सात रंगों में बिखर जाते हैं। इन सात रंगों में वॉयलेट, इंडिगो, ब्‍लू, ग्रीन, यलो, ऑरेंज और रेड शामिल हैं। सूरज की किरणों के बिखरने पर सबसे कम लहर दैर्घ्‍य ब्‍लू और इंडिगो की होती है। रेड कलर की लहर दैर्ध्‍य सबसे ज्‍यादा होती है। जिसके कारण ब्‍लू और इंड‍िगो कलर वाली किरणें आसमान में ज्‍यादा बिखर जाती हैं, इसलिए आसमान नीला प्रतीत होता है।

रेड लाइट का तरंगदैर्घ्य 620–750 nm है वहीं ब्लू लाइट का तरंगदैर्घ्य 450–495 nm है। इसके कारण नीला प्रकाश वायुमंडल में मौजूद गैस, पराग के कणों, धूल इत्यादि से टकराकर कर बिखर जाता है और जिसकी वजह से वो हवा में लम्बे समय तक मौजूद रहता है। इसी बिखरे हुए प्रकाश के कारण हमें आसमान नीला दिखाई देता हैं।

आकाश के रंग की खोज किसने की

जॉन टिंडल 19वीं सदी के एक प्रमुख ब्रिटिश भौतिक वैज्ञानिक थे। वे आसमान के रंग का स्पष्टीकरण करने वाले पहले वैज्ञानिक थे। उन्होंने अपने इस शोध को रेले स्कैटरिंग का नाम दिया था। उनकी यह खोज सबसे महत्वपूर्ण खोजों में से एक थी। एक बार उन्होंने दो परखनलियों का प्रयोग किया और उन्हें इस प्रकार पकड़ कर रखा कि सूर्य की किरणें एक से दूसरे में जाती रहीं।

इस तरह उन्होंने देखा कि ट्यूब एक सिरे से नीली दिखाई दे रहा है, जबकि दूसरी तरफ से लाल दिखाई दे रहा है। इस खोज से उन्हें आकाश के नीले रंग के बारे में पता चला था। प्रकीर्णन के कारण हम समुद्र को नीला, अनेक रंगों में सूर्यास्त, इन्द्रधनुष आदि देख सकते हैं।

टिंडल प्रभाव

अपने शोध के दौरान उन्होंने एक कांच की नली का निर्माण किया जो वातावरण का अनुकरण करती थी, जिसके एक छोर पर सफेद प्रकाश का स्रोत था जो सूर्य के रूप में कार्य करता था। जैसे ही उन्होंने ट्यूब में धुआं डाला प्रकाश की किरण एक तरफ से नीली दिखाई दी लेकिन दूसरे छोर से लाल दिख रही थी।

इस घटना ने उन्हें बताया कि वातावरण में धूल और वाष्प के कणों ने हमारी आंखों में आने वाली नीली रोशनी को बिखेर दिया। आज हम जानते हैं कि नीला रंग अपनी छोटी तरंग दैर्ध्य के कारण अधिक बिखरा हुआ है, जबकि लाल अधिक प्रवेश करता है क्योंकि यह दृश्य प्रकाश की सबसे लंबी तरंग है।

जैसे-जैसे प्रकाश हवा के माध्यम से गुजरता है, वैसे-वैसे सूर्योदय और सूर्यास्त के समय क्षितिज पर सूर्य कम होता है। हमारी दृष्टि रेखा तक पहुँचने से पहले नीली रोशनी समाहित हो जाती है और हम लाल रंग के बिखरने को देखते हैं।

टाइन्डल प्रभाव सूक्ष्म-कण तरल पदार्थों में फैलाव की इस घटना को बताता है, लेकिन जो हम आकाश में देखते हैं वह वास्तव में तथाकथित रेले प्रकीर्णन है जो स्वयं वायु अणुओं के कारण होता है, जो प्रकाश की तरंग दैर्ध्य से बहुत छोटे होते हैं।

अंतरिक्ष से आकाश कैसा दिखता है

विज्ञान के अनुसार आसमान का कोई रंग नहीं है। आकाश रंगहीन है। अंतरिक्ष यात्री जब अंतरिक्ष में जाते हैं, तो उन्हें सिर्फ वातावरण की अनुपस्थिति के कारण सब कुछ काला दिखता है। हमारे आसपास के वातावरण के कारण आसमान का रंग नीला प्रतीत होता है। हमारे वातावरण की वजह से पूरी दुनिया खूबसूरत दिखती है। वायुमंडल हमारे ग्रह पर बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

सूर्योदय और सूर्यास्‍त के समय नारंगी क्‍यों दिखता है आसमान

आपने अक्सर देखा होगा कि ऊषाकाल और संध्या के समय आसमान का रंग नारंगी या लाल प्रतीत होता है। आपको बता दें कि इसका कारण भी प्रकाश की किरणें ही है। विज्ञान के अनुसार ऊषाकाल और संध्या के दौरान सूरज पृथ्वी के काफी करीब होता है। इस दौरान सूरज का तापमान कम होता है और नीले व हरे रंग की किरणें लाल व नारंगी रंग के मुकाबले अध‍िक पराव‍र्तित हो जाती हैं।जिसके कारण आकाश का रंग लाल या नारंगी दिखने लगता है।

क्या अन्य ग्रहों पर भी आकाश नीला दिखता है ?

यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि वहाँ का वातावरण कैसा है? उदाहरण के लिए मंगल का वातावरण बहुत ही पतला है जो ज्यादातर कार्बन डाइऑक्साइड से बना है और धूल के महीन कणों से भरा है। ये बारीक कण पृथ्वी के वायुमंडल में गैसों और कणों की तुलना में अलग तरह से प्रकाश बिखेरते हैं।

नासा के रोवर्स और लैंडर्स की तस्वीरों ने हमें दिखाया है कि मंगल ग्रह पर सूर्यास्त के समय पृथ्वी के विपरीत होता है। दिन के समय मंगल ग्रह का आकाश नारंगी या लाल रंग का हो जाता है। लेकिन जैसे ही सूर्य अस्त होता है सूर्य के चारों ओर का आकाश नीले-भूरे रंग का होने लगता है।

निष्कर्ष

यह हमारी प्रकृति है जिसने हमें इतने सुंदर रंग उपहार में दिए हैं और जिसके वजह से आसमान नीला दिखता है और वातावरण हरा दिखता है। ये सभी चीजें चमत्कार की तरह दिखती हैं लेकिन यह विज्ञान का हिस्सा हैं। आजकल प्रदूषण के कारण हम अपने वातावरण में रंग की असली सुंदरता नहीं देख सकते हैं। हमारी प्रकृति और पृथ्वी की रक्षा करना हमारा कर्तव्य है।

तो दोस्तों आप को हमारी यह जानकारी कैसे लगी और हम को कमेंट कर के जरूर बताये और हमारे ब्लॉग Hindi Top को फॉलो कर ले ताकि हमारे आर्टिकल सब से पहले आप तक जा सके


Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Priya Kumari

I'm a content writer with a passion for writing fresh and engaging contents that can influence others. Specialized in writing SEO friendly and plagiarism free articles. I am an experienced and professional content writer, well trained in various tasks including article writing, web content, blog writing.

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button